इंटरनेट ने मुझे मजबूर किया

भ्रान्तिजनक ढांचों के बीच से सच्चाई ढूंढ निकालें

हाल ही के दिनों में किसी वेबसाइट से भेजे हुए सब्सक्रिप्शन या आन्लाइन विज्ञापन को याद करें। शायद सहज “हाँ” या “ना” के बजाय आप कि वो कुछ इस प्रकार के विकल्प दिखे हों

बद्तमीज़ बटन

इस प्रकार की परिस्थिति में 'हाँ ' का विकल्प 'नहीं ' के विकल्प से अधिक आकर्षक हो जाता है। इस पद्धति को 'कन्फर्मेशन शेमिंग ' कहते हैं। इसको बद्तमीज़ बटन भी कहा जा सकता है - यानी ऐसा एक 'बटन' या विकल्प जो आपको शर्मिंदा करके आपसे “हाँ” करवाए या जिसका उद्देश्य ही आपको परेशान करके 'हाँ' करवाना हो।

वेबसाइट या ऍप लोड होते वक़्त कई बार आपको ऐसा कुछ दिखता है:

गंतव्यहीन पथ

आप सोचते हैं कि वाक़ई में ये 'प्रोग्रेस बार ' दर्शा रहा है कि वेबसाइट या ऍप कितना लोड हुआ लेकिन अचानक 'प्रोग्रेस बार' भरने के बाद फिर से लोड होना शुरू हो जाता है।इसे कह्ते हैं 'फेक प्रोग्रेस बार '। हम इसे कह सकते हैं रोड टु नोवेयर या गंतव्यहीन पथ। ये केवल एक एनीमेशन है जिसका उद्देश्य वेबसाइट की मंद गति को छुपाना या जानबूझ कर आपको देर करवाना या आपका निर्णय बदलना होता है।

बद्तमीज़ बटन और गंतव्यहीन पथ इंटरनेट पर पाए जाने वाले अनगिनत 'डार्क पैटर्न्स' में से केवल दो उदाहरण हैं।

डार्क पैटर्न् डिज़ाइन के ऐसे झांसे होते हैं, जिनका का मूल उद्देश्य लोगों को लालच देकर या भड़का कर किसी वेबसाइट पर रजिस्टर करवाना या कोई वस्तु अथवा सेवा खरीदवाना या व्यक्तिगत तथ्य बताने पर मजबूर करना है। इसके अंतर्गत खास रंग, विशिष्ट स्थानों पर बटन की स्थापना, भ्रामक या समझने में कठिन लेख या अपूर्ण जानकारी जैसी चीज़ों का उपयोग किया जाता है।

नये नये 'डार्क पैटर्न्स' की खोज और पकड में एक पूरा समुदाय लगा हुआ है। ये लोग नये नये डार्क पैटर्न उजागर करने और अन्य लोगों को इनके प्रति सचेत करने में लगे रहते हैं।

अगर आप इस विषय में और जानना चाहते हैं तो यह अगर आप इस विषय में और जानना चाहते हैं तो ये सूचनात्मक वीडियो देखिये। सूचनात्मक वीडियो देखिये।

प्रलोभन

टेक्नोलॉजी कंपनियां हमारे निर्णय को प्रभावित करने के लिए प्रतिदिन नए 'डार्क पैटर्न्स' का सृजन एवं प्रयोग कर रहीं हैं। कई बार हमें इनका पता चल जाता है परन्तु कई बार हम इनके झांसे में आ जाते हैं।

एक छोटा सा उदहारण देखते हैं - आप जब ऑनलाइन होटल का कमरा बुक करने की कोशिश करते हैं तो कई बार आपको लाल हरफों में 'इन हाई डिमांड ' लिखा दिखाया जाता है।साथ में ये सूचना भी दी जाती है कि एक दिन पहले काफी लोगों ने इस होटल में कमरे लिए हैं। सिर्फ यही नहीं -इस वक़्त आपके अलावा और तीन लोग भी यहाँ कमरा लेने की कोशिश कर रहें हैं। ये सब पढ़के आप भी चाहेंगे कि जल्द से जल्द आप भी यहाँ कमरा बुक कर लें ताकि बाद में आपको दिक्कत ना हो।

फोमो

कैसा महसूस होता ऐसी परिस्थिति में? दिल की धड़कने तेज़ हो जाती हैं? अनजाने में क्रेडिट कार्ड पर्स से निकल कर हाथ में आ जाता है! ऐसा लगता है की जितनी जल्दी हो सके ये काम कर लेना चाहिए! ये परिस्थिति 'FOMO' अर्थात 'फियर ऑफ़ मिसिंग आउट ' नामक 'डार्क पैटर्न ' का उदाहरण है यानी कुछ छूट जाने का डर।

टेक्नोलॉजी कंपनियां इस तरह के डिज़ाइन के झांसों का प्रयोग करती हैं क्योंकि ये प्रभावशाली सिद्ध होते हैं। हम क्लिक करते हैं , ज़्यादा सब्सक्राइब करते हैं एवं ज़्यादा वस्तुएँ या सेवाएं खरीदते हैं – कई ऐसी चीज़ें भी खरीद लेते हैं जिनकी हमें कोई आवश्यकता ही नहीं है। हम जितना ऐसे कपटी तरीकों के बारे में अपनी जानकारी बढ़ाएंगे व सतर्क रहेंगे उतना हम इनके चंगुल में काम फसेंगें।

एक बार डार्क पैटर्न के बारे में आप जागरूक हो गए तो आसानी से आप इन्हें पहचान लेंगें व सतर्क होकर इंटरनेट का उपयोग करेंगें।

यह उतना ही ज़रूरी है जितना कि फ़िशिंग और स्पैम ई-मेल से बचना।

यहाँ देखिये लिंकडिन नामक वेबसाइट कैसे डार्क पैटर्न का इस्तेमाल करके आपकी कॉन्टैक्ट लिस्ट ले लेती है

पहचानिये ये कौन सा डार्क पैटर्न है ?

हमने देखा किस प्रकार टेक्नोलॉजी कंपनियां डिज़ाइन के झांसों का प्रयोग करके आपका मत परिवर्तन करवाते हैं । अभी तक हमने तीन प्रकार के डार्क पैटर्न्स के बारे में चर्चा की - 'गंतव्यहीन पथ' , 'बद्तमीज़ बटन' एवं 'फोमो'। अब देखते हैं कि आप इन्हें पहचान पाते हैं या नहीं।

क्या आप सभी डार्क पैटर्न पहचान सकते हैं?

आप उड़ानों की खोज कर रहे हैं, और जैसे ही पृष्ठ लोड होता है, आपको एक रंगीन, एनिमेटेड सर्कल (गोलाकार) दिखाई देता है जो ऐसे घूमता हुआ दिखता है। यह किसका उदाहरण है ?

फोमो (पिछड़ जाने का डर)

कहीं नहीं जाने वाली सड़क

आप एक कंपनी न्यूज़लेटर के लिए साइन अप करने के लिए एक विज्ञापन देखते हैं जो दो बटन प्रदान करता है: एक कहता है “हां, मैं बेहतर उत्पादकता चाहता हूं” और दूसरा कहता है “मुझे समय बर्बाद करना पसंद है।” यह किसका उदाहरण है ?

बद्तमीज़ बटन

छुपा हुआ ऐड

आप ऑनलाइन खरीदारी कर रहे हैं और आप एक संदेश देखते हैं, जो कहता है,“जल्दी करो, इस कीमत पर केवल 6 बचे हैं“ यह किसका उदाहरण है?

ट्रिक प्रश्न

फोमो

आप एक वेबसाइट पर एक सॉफ्टवेयर डाउनलोड करने के लिए एक लिंक खोज रहे हैं। आप एक बड़ा बैनर देखते हैं जो कहता है कि “अभी डाउनलोड करें” और जब आप इसे क्लिक करतें हैं तो आपको यह पता लगता है कि यह कुछ और ही डाउनलोड करने का विज्ञापन था। यह किसका उदाहरण है?

गंतव्यहीन पथ

छिपा हुआ विज्ञापन

आप एक ऑनलाइन फॉर्म भर रहे हैं और आपको बहुत ही क्लिष्ट भाषा में लिखे हुए विकल्प दिखते हैं, जैसे “मुझे प्राडक्ट और ऑफर के बारे में खबर मत भेजिए” के बाद “मुझे प्रोडक्ट और ऑफर की जानकारी चाहिए”

ट्रिक प्रश्न

बद्तमीज़ बटन

डार्क पैटर्न सम्बंधित अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

हम क्या कर सकते हैं?

आप सोच रहे होंगे कि इस बारे में आप क्या कर सकते हैं! सच कहें तो टेक्नोलॉजी कंपनियों की ही ज़िम्मेदारी है डार्क पैटर्न्स जैसी ग़लत प्रथाओं पर रोक लगाएं। अमेरिका व इंग्लैंड जैसे देशों में नए कानूनों के द्वारा इन कुप्रथाओं पर रोक लगाने पर विचार किया जा रहा है। आप कुछ सहज उपायों के ज़रिये खुद को और अपने परिजनों को डार्क पैटर्न के चंगुल से बचा सकते हैं।

१. डार्क पैटर्न्स को पहचानना सीखें

सर्वप्रथम डार्क पैटर्न्स के बारे में जागरुक होना ज़रूरी है। विभिन्न प्रकार के डार्क पैटर्न जानने के लिए यहां पढ़ेंट्विटर फीडहैशटैग का अनुसरण करके, नए कपटी तरीकों के बारे में जानिए और अपने परिजनों को भी अवगत कराएँ।

२. स्क्रीनशॉट लेकर परिजनों को भी भेजिए

जब भी आपको डार्क पैटर्न दिखे एक स्क्रीनशॉट लेके अपने जान पहचान वालों को भेज दें (व्यक्तिगत विवरण को उस जानकारी से हटाकर)। अगर यह जानकारी आप सोशल मिडिया (फेसबुक, ट्विटर इत्यादि) के माध्यम से दूसरों तक पहूँचाना चाहते हैं तो हैशटैग #darkpattern अवश्य लिखें ताकि लोगों को इस प्रकार की जानकारी ढूंढने में आसानी हो एवं वे आपके तजुर्बे से लाभ उठा सकें।

स्क्रीनशॉट लेने की विधि फोन उपकरण पर निर्भर है। अपने फ़ोन पर स्क्रीनशॉट लेने की विधि जानने के लिये डक डक गो पर सर्च करना न भूलें। उदाहरण के तौर पर कुछ फोन उपकरणों में तीन उंगलियों से स्वाइप करने पर स्क्रीनशॉट ले लिया जात है।

३. आवाज़ उठायें

जब आप उचित स्क्रीनशॉट भेजते हैं उससे न केवल आपके परिजनों को फायदा होता है बल्कि टेक्नोलॉजी कंपनियांों के साथ वार्तलाब का रास्ता भी खुल जाता है। ईमेल भेजिए, ट्वीट करिये जिसके द्वारा इस प्रकार के संगठनों को पता चले कि आप उनकी चालाकियों से अवगत व असंतुष्ट हैं । परिणामस्वरुप हो सकता है कि यह संगठन जागरूक हो जाएँ और खुद ही इस प्रकार की कुप्रथाओं को रोकने की कोशिश करें ।

४. हर पल सतर्क रहें

इंटरनेट पर प्रतिदिन नए नए कपटी तरीकों की सृष्टि हो रही है। इस प्रकार की धोखेबाज़ी से बचने का एक सहज उपाय है कि सोच समझ कर धैर्य से काम करने की आदत डालना। एक पल रुक कर विचार करें कि यह वेबपेज जो आपको जल्द से जल्द निर्णय लेने के लिए मजबूर कर रही है, क्या वाक़ई में इस जल्दबाज़ी की आवश्यकता है? अगर आप इच्छा के विरुद्ध कोई बटन क्लिक कर लेते हैं तो ध्यान से देखें कि आपको प्रलोभित करने के लिए वेबपेज पर किस प्रकार के शब्दों अथवा रंगों का उपयोग किया गया है! अपना अनुभव दूसरों को बताएं।

५. आपका टैप/क्लिक आपका मत है

आप नियमित रूप से जिस वेबपेज का उपयोग करते हैं वहां इस प्रकार के गलत तरीकों का इस्तेमाल हो रहा हो और आपके बार बार कहने पर भी कोई कार्यवाही न हो रही हो तो आपके पास एक प्रभावशाली हल है - आप दूसरे वेबपेज का उपयोग करें। अगर आप उनको अपने असंतोष के बारे में बताकर उस वेबपेज का उपयोग करना बंद कर दें तो वो ज़रूर इस बात पर गंभीरता से विचार करेंगे।

इंटरनेट पर इस प्रकार के गलत तरीकों और फ़ेक न्यूज़ के सम्बन्ध में अधिक जानकारी के लिए यह लेख पढ़ें!